हर समय सोचते रहने वाले इंसान यह जरुर पढ़ें


बड़े बुजुर्ग कह कर गए हैं कि कोई भी काम बिना सोचे समझे नहीं करना चाहिए। पर इस पर एक सवाल यह है कि कितना सौचे?  हमारे सोचने की क्षमता असीमित है। आपने अक्सर यह बात नोटिस की होगी कि हमारी ज्यादातर प्लानिंग इसलिए फेल होती है क्योंकि हम एक चीज के बारे में बहुत ज्यादा सोचते हैं पर उसे कर नहीं पाते। धीरे-धीरे हम उस बात को लेकर इतना ज्यादा सोचते हैं कि उस Idea पर बिना काम किए ही बोर हो जाते हैं और उसे छोड़ देते हैं।
jarurat se jyada sochna hanikarak hai

jarurat se jyada sochna hanikarak hai

साइंस कहती है कि हमारे दिमाग में  एक दिन में 40 से 50 हजार तक विचार आते है। जिसमें से लगभग 70% नेगेटिव होते हैं और बाकी बचे थॉट में कई सारे ऐसे आईडिया होते हैं जो हमारे आने वाले समय के लिए हम सोचते हैं। और इन idea में भी केवल 2 परसेंट ऐसे होते हैं जिनके बारे में हम ज्यादा फोकस करते हैं ।


 

हमारी थिंकिंग प्रोसेस क्या है?

अब सवाल यह है कि हमारी थिंकिंग प्रोसेस क्या है? इसे समझाने के लिए मैं आपको एक उदाहरण देता हूं। मान लो अपने किसी को, वेबसाइट से बहुत सारे पैसे कमाते देखा है अब आप सोचते हैं कि यह काम तो बहुत ही आसान है मैं भी ऐसी वेबसाइट या ब्लॉग से पैसे कमा सकता हूं। पल भर में मेरी ब्लॉक हिट हो जाएगी और मेरे पास बहुत सारे पैसे हो जाएंगे। मेरे माता-पिता मुझ पर बहुत सारा गर्व करेंगे। सारे लोग मेरी तारीफ कर रहे होंगे। इसी तरह आपने अभी तक कोई ब्लॉक बनाया नहीं और उसके बारे में बहुत सारा सोच लियाऔर उसके सपने देख लिए हैं।

हम काम  कैसे करते है ?

पर हकीकत सपनों से बिल्कुल अलग होती है। जो काम हमें आसान लगता है वही सबसे ज्यादा परेशान करने वाला होता है। आप जरूरत से ज्यादा इस तरह के सपने देख लेते हैं फिर एक दिन आप ब्लॉक बनाने बैठते हैं। तब आपको पता चलता है कि जिस टॉपिक पर आपने अपनी पोस्ट लिखे हैं उस पर ज्यादा व्यू नहीं मिल रहे हैं।

क्योंकि उसी टॉपिक पर आपसे अच्छा किसी ब्लॉग में पहले से मौजूद है। फिर आप दूसरों के ब्लॉक को देख देखकर अपने ब्लॉग बनाते हैं। फिर वह भी नहीं चलते और आपको लगता है कि यह idea काम नहीं करेगा और आप उस दूसरे ब्लॉक की तुलना में अपने आप को छोटा देखने लगते हो। और आप उस काम करो वही छोड़ देते हो।

यहीं आप गलती करते हैं। आपने जो सोचा है था वह ठीक था। आप ने जो करा वह भी ठीक था। आपको सोचना बंद करके काम करना चाहिए था और उसमे महारत कैसे हासिल की जाए यह सोचना था। जब आप अपने काम में महारत हासिल कर लेते हैं तो आपके साथ बिल्कुल वैसा होता है जैसा आप अपने सपने में सोचते हैं।

 मेहनत करे आगे बढे 

आपको यह पता होना चाहिए कि जो लोग ब्लॉगिंग में या YouTube में या किसी भी फील्ड में सबसे ऊपर है वह भी इसी कंडीशन से गुजरे होंगे। उन्हें भी यह सब समस्याएं अपने जीवन पर आई होगी और उन्होंने इसका किसी तरह से सामना किया है। वह डटे रहे और अपने लक्ष्य के प्रति जागरुक रहे। और उन्होंने एक दिन यह मुकाम हासिल कर लिया कि वह आज सबसे ज्यादा फेमस है।

इसलिए किसी चीज के बारे में कितना सोचना है उसको समझना चाहिए और तुरंत एक्शन लेना चाहिए केवल सपनों के महल मत बनाए उसे हकीकत में भी बदले।

यह पोस्ट आपको केसी लगी इसके बारे में हमे Comment कर बताये। इसके Related कोई Question आपके दिमाग में है तो आप पूछ सकते है । हमे Support करने के लिए Facebook, Twitter और Youtube पर Like, follow और Subscribe करे। हम एसे ही काम की बाते आपके लिए लाते रहेंगे।

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ऐसी ही जानकारी रोज पढने के लिए Like करे-

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: